अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने देश के हालात पर फिर जताई चिंता, कहा- धर्म के नाम पर नफरत की दीवार खड़ी की जा रही है

2
- Advertisement -

देश के हालात पर नसीरुद्दीन शाह ने फिर की टिप्पणी

नई दिल्ली:

बॉलीवुड अभिनेता नसीरुद्दीन शाह (Naseeruddin Shah) ने देश के मौजूद हालात पर एक बार फिर चिंता व्यक्त की है. उन्होंने कहा है कि जिस तरह से धर्म के नाम पर नफरत की दीवार खड़ी की जा रही है, वह किसी के लिए भी अच्छा नहीं है. नसीरुद्दीन शाह (Naseeruddin Shah) ने यह बात एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया (Amnesty India) से कही. एमनेस्टी (Amnesty India) ने नसीरुद्दीन शाह (Naseeruddin Shah) के बयानों को लेकर एक वीडियो भी जारी किया है. जिसमें वह कह रहे हैं कि हमारे देश का संविधान हमें बोलने, सोचने, किसी भी धर्म को मानने और इबादत करने की आजादी देता है. लेकिन, अब देश में मजहब के नाम पर नफरतों की दीवार खड़ी की जा रही है. जो लोग इस अन्याय के खिलाफ आवाज उठाते हैं, उन्हें इसकी सजा दी जाती है.

In 2018, India witnessed a massive crackdown on freedom of expression and human rights defenders. Let's stand up for our constitutional values this new year and tell the Indian government that its crackdown must end now. #AbkiBaarManavAdhikaarpic.twitter.com/e7YSIyLAfm

— Amnesty India (@AIIndia) January 4, 2019

बता दें कि नसीरुद्दीन शाह ने कुछ दिन पहले एक बयान जारी कर कहा था कि जिस तरह से देश में हालात होते जा रहे हैं ऐसे में उन्हें भी यह डर सताने लगा है कि कल कहीं उनके बच्चों को भी कोई हिंदू और मुसलमान बताकर मार न दें. नसीरुद्दीन शाह के इस बयान के बाद जमकर बवाल हुआ था. शुक्रवार को जारी किये गए इस वीडियो में नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि इस देश में कलाकार, अभिनेता, शोधार्थियों, कवियों सभी को दबाया जा रहा है.

- Advertisement -

यह भी पढ़ें: भाजपा MLA बोले- पाकिस्तान चले जाएं नसीरुद्दीन शाह, टिकट और वीजा मैं करा दूंगा

पत्रकारों को भी चुप कराया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हमारा देश एक लोकतांत्रिक देश है और यहां अपना मत रखने का सबको एक समान अधिकार है. एमनेस्टी के 2 मिनट से ज्यादा के इस वीडियो में नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि जिन लोगों ने मानवाधिकारों की मांग की उन्हें जेल में डाला जा रहा है. उन्होंने दावा किया कि धर्म के नाम पर नफरत की दीवार खड़ी की जा रही है. निर्दोषों को बेवजह ही मारा जा रहा है.

यह भी पढ़ें: नसीरुद्दीन शाह के बचाव में आए आशुतोष राणा, कहा- हर किसी को मन की बात कहने का हक है

उन्होंने कहा कि जो कोई भी इस अन्याय के खिलाफ खड़ा होता है उसे चुप कराने के लिए उनके कार्यालयों में छापे मारे जाते हैं, लाइसेंस रद्द किए जाते हैं और बैंक खाते फ्रीज किए जाते हैं ताकि वे सच ना बोलें. नसीरुद्दीन ने कहा कि मौजूदा समय में देश में सिर्फ अमीर और शक्तिशाली लोगों की ही बात सुनी जाती है. आम जनता से जुड़े मुद्दों और समस्या पर कोई भी बात करने को तैयार नहीं है.

VIDEO: नसीरुद्दीन शाह ने कहा हमें आता है अपने मसले सुलझाना.

टिप्पणियांSource Article