अब मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव बोलीं- अयोध्या में राम मंदिर बनना चाहिए

1
- Advertisement -

राम मंदिर पर अपर्णा यादव की राय

बाराबंकी: लोकसभा चुनाव 2019 के नजदीक आते ही राम मंदिर को लेकर बयानबाजी का माहौल फिर से गर्म हो गया है. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर विभिन्न नेताओं की ओर से तरह-तरह के बयान आ रहे हैं. अब इस मुद्दे पर उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े सियासी कुनबे यानी मुलायम परिवार की छोटी बहू अपर्णा यादव ने भी राम मंदिर को लेकर अपनी राय रखी है. राम मंदिर निर्माण पर बीजेपी के स्टैंड से इत्तेफाक रखने वाली अपर्णा यादव ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए. माना जा रहा है कि अपर्णा के इस बयान से सियासी गलियारों में कई तरह की अटकलबाजियां शुरू हो सकती हैं. बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर बीजेपी शुरू से ही मुखर रही है. वहीं, राम मंदिर को लेकर सपा बीजेपी पर हमला बोलती रही है. मगर समाजवादी पार्टी के परिवार से आया यह बयान सपा के लिए मुसीबत खड़ी कर सकती है.
राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन अधिग्रहण करने और कानून बनाए जाने की जरूरत: RSS
दरअसल, उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में बुधवार को उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के छोटे पुत्र प्रतीक यादव की पत्नी अपर्णा यादव ने कहा, "मुझे सुप्रीम कोर्ट पर विश्वास है… मेरा मानना है कि अयोध्या में राममंदिर बनाया जाना चाहिए…" बता दें कि अपर्णा का राम मंदिर पर रुख उनकी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव से बिलकुल अलग है.

I have trust in the Supreme Court. My opinion is that Ram Mandir should be constructed in Ayodhya: Aparna Yadav in Barabanki yesterday pic.twitter.com/0UiAGZjSk7

— ANI UP (@ANINewsUP) November 1, 2018

'याकूब मेनन की फांसी टालने के लिए सुप्रीम कोर्ट रात में खुल सकता है, लेकिन अयोध्या मामले में तारीख पर तारीख…'
बीते दिनों राष्ट्रीय क्रांतिकारी समाजवादी पार्टी के स्थापना दिवस के कार्यक्रम में अपर्णा यादव चाचा शिवपाल यादव के साथ नजर आई थीं. इस दौरान अपर्णा यादव ने कहा कि 'यहां 24 राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई थी, सब अगर एक साथ आ जाएं तो वह शक्ति बन जाएगी. शक्ति को इकट्ठा करें और इस दल को बल में बदल दीजिए. मैं चाहती हूं कि सेक्युलर मोर्चा मजबूत हो, मजबूती के साथ अपने लोकतंत्र को मजबूत करें. '
बीजेपी नेता गिरिराज सिंह बोले- नहीं पता राहुल गांधी हिंदू हैं, अगर वह राम मंदिर पर चुप रहे तो शिव की भक्ति भी स्वीकार्य नहीं
टिप्पणियां दरअसल, राम मंदिर पर हाल ही में बयानबाजियां बढ़ गई हैं. बुधवार को ही केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने राम मंदिर पर कोर्ट को ही निशाने पर लेते हुए कहा कि राम मंदिर के मुद्दे पर फैसला देने के लिए कोर्ट के पास समय नहीं है और आतंकियों तथा अन्य मामलों में न्यायालय रात में भी अपना फैसला सुना देती है. बावजूद इसके करोड़ो हिंदुओं की आस्था से जुड़े राम मंदिर के मसले को अभी तक नहीं सुलझाया जा सका. यह काफी दुखद है. वहीं बीजेपी के बहुमत में होने और घोषणा पत्र में भी राम मंदिर निर्माण के शामिल होने के बाबजूद भी केंद्र आखिर अध्यादेश क्यों नही लाती? इस सवाल के जबाब में उन्होंने कहा चाहे अध्यादेश हो या कोर्ट का फैसला….राम मंदिर बनकर ही रहेगा.
VIDEO: मिशन 2019 : क्या कानून से बनेगा राम मंदिर?
Source Article

- Advertisement -