अपनी गर्लफ्रेंड से प्यार के शक में पहले भतीजे की हत्या, फिर शव को बालकोनी में दफनाया और लगा दिए पौधे

4
- Advertisement -

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

दिल्ली के द्वारका से रिश्तों को शर्मशार करने वाली एक घटना सामने आई है. यहां एक युवक ने अपनी गर्लफ्रेंड से अपने ही भतीजे की बढ़ती नजदीकियों से तंग आकर पहले उसकी हत्या की और बाद में उसे घर की बालकनी में दफना दिया. इतना ही नहीं किसी को उसपर शक न हो इसके लिए उसने दफन शव के ऊपर ही पौधे भी लगा दिए. घटना के तीन साल के बाद पुलिस (Delhi Police) ने आरोपी को अब हैदराबाद से गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस (Delhi Police) ने आरोपी युवक की पहचान बिजय कुमार महाराणा के रूप में की है. वह एक आईटी कंपनी में नौकरी करता है. वहीं मृतक की पहचान जय प्रकाश के रूप में की गई है. मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारी (Delhi Police) के अनुसार 2012 में अपनी गर्लफ्रेंड के दिल्ली (Delhi Police) आ जाने के बाद बिजय भी दिल्ली आ गया था. जबकि उसका भतीजा 2015 में उसका भतीजा जय प्रकाश भी काम के सिलसिले में दिल्ली आ गया. बाद में बिजय और जय प्रकाश साथ ही रहने लगे. इसी दौरान बिजय ने अपनी गर्लफ्रेंड से जय प्रकाश को मिलवाया.

यह भी पढ़ें: पिता का इलाज कराने के लिए दिल्ली आए अफगानिस्तान के नागरिक की हत्या

- Advertisement -

पुलिस अधिकारी के अनुसार उस समय बिजय नोएडा की एक आईटी कंपनी में नौकरी करता था जबकि जय प्रकाश गुरुग्राम स्थित एक कंपनी में काम करता था. कुछ समय के बाद बिजय को लगा कि जय प्रकाश और उसकी गर्लफ्रेंड के बीच नजदीकियां कुछ ज्यादा ही बढ़ने लगी हैं. इसके बाद ही बिजय ने जय प्रकाश को मारने की योजना बनाई. एक दिन जब जय प्रकाश उसके फ्लैट में सो रहा था उसी दौरान उसने पंखे के मोटर से उसके सिर पर हमला कर उसकी हत्या कर दी. इसके बाद उसने अपने फ्लैट की बॉलकोनी में ही उसे दफना दिया. इसके लिए उसने पहले से ही मिट्टी का इंतजाम किया हुआ था. इसके बाद उसने दफन शव के ऊपर ही फूल और पौधे लगा दिए ताकि किसी को उसपर शक न हो. आरोपी बिजय ने खुदको पुलिस से बचाने के लिए जय प्रकाश के लापता होने की झूठी रिपोर्ट भी लिखवाई. घटना के कुछ समय बाद उसने द्वारका के उस घर को छोड़ दिया और नांगलोई में रहने लगा.

यह भी पढ़ें: कलयुगी बेटे ने मां को पीटा और फिर जिंदा जला दिया, जानें वजह

पुलिस अधिकारी ने बताया कि इस पूरी घटना का खुलासा तब हुआ जब द्वारका के फ्लैट में दफनाए गए शव का कंकाल मिट्टी से बाहर निकलने लगा. इसके बाद फ्लैट के मालिक ने पुलिस को घटना की जानकारी दी. मौके पर पहुंची टीम ने बिजय के बाद इस फ्लैट में रह चुके दो अन्य किरायदारों से पूछताछ की. इसके बाद उन्हें शक बिजय पर हुआ. लेकिन नांगलोई में कुछ समय तक रहने के बाद बिजय दिल्ली छोड़ चुका था. उसने अपना फोन नंबर भी बदल लिया और अपने बैंक खातों से पैसे निकाल कर उसे बंद करवा दिया था. वह अपने दोस्तों और परिवार के लोगों से भी संपर्क में नहीं था. बाद में पुलिस ने तकनीक सर्विलांस की मदद से आरोपी को हैदराबाद से गिरफ्तार किया.

VIDEO: बिहार में भीड़ ने की सरेआम हिंसा.

टिप्पणियांSource Article